देकर दस्तक दरवाज़े पर,
बार-बार लौट जाती है।

शायद नींद को भी
तुम्हारे आने का इंतज़ार है।।

Advertisements